टीचर्स डे पर वाल्मी मार्च का आयोजन, प्रकृति और जंगल से रूबरू हुए भोपाल वासी 

शिक्षक दिवस के अवसर पर रविवार को पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने 'वाल्मी मार्च' (चलो वाल्मी जंगल की ओर) कार्यक्रम का आयोजन इकोलॉजिकल ऑक्सीजन पार्क में किया गया। जिसमें युवाओं के साथ बड़ी संख्या में हर वर्ग के लोगों ने सहभागिता की।

टीचर्स डे पर वाल्मी मार्च का आयोजन, प्रकृति और जंगल से रूबरू हुए भोपाल वासी 
शिक्षक दिवस के अवसर पर रविवार को पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने 'वाल्मी मार्च' (चलो वाल्मी जंगल की ओर) कार्यक्रम का आयोजन इकोलॉजिकल ऑक्सीजन पार्क में किया गया। जिसमें युवाओं के साथ बड़ी संख्या में हर वर्ग के लोगों ने सहभागिता की। इस दौरान प्रतिभागियों को फ्लोरा एवं फौना, वाल्मी फॉरेस्ट,जल संरक्षण एवं रिज टू वेली कांसेप्ट से परिचित कराया गया। 

कार्यक्रम को मजेदार बनाने के लिए ट्रैकिंग, नेचर हंट और इंडोर गेम्स जैसे टेबल टेनिस, कैरम, डॉट एवं शतरंज का भी आयोजन किया गया। इस दौरान पार्टिसिपेंट्स ने वाल्मी के अंदर 4 किमी तक ट्रैकिंग करते हुए वॉल क्लांबिंग और अन्य एडवेंचर्स कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। वाल्मी में ट्रैकिंग के साथ-साथ इंडोर गेम्स की व्यवस्था भी की गई है।

प्रतिभागियों ने वाल्मी को सराहा : 
रिटायर्ड डिप्टी कंजर्वेटर ऑफ फॉरेस्ट एमपी श्रीवास्तव ने बताया कि मैंने अपने जीवन में फॉरेस्ट के बीच में बहुत सी एक्टिविटी की है, मगर वाल्मी का यह प्रयास शहर के लोगों के लिए सराहनीय है। ट्रैकिंग करते हुए हम फारेस्ट एवं इन्वायरमेंट से रूबरू हो रहे हैं। शिक्षक दिवस पर इस प्रकार का अनुभव सीखने योग्य रहा।
 
वहीं सरिता बेडसे ने बताया कि तीन-चार किमी के ट्रैक पर चलकर बहुत मजा आया। वाल्मी ने इसे बहुत ही सुंदर तरीके से डिजाइन किया है। यहां का प्राकृतिक वातावरण अपने आप में अद्भुत और अनूठा है।

यह भी पढ़ें : वाल्मी परिसर में शहीदों के नाम रोपे पौधे, मटकी फोड़ और गायन में भी दिखाया दम