सबसे पहले यूपी में बनाया गया था आलू मटर वाला समोसा 

ज्यादातर लोग समोसे को एक भारतीय व्यंजन के रूप में जानते हैं,लेकिन असल में समोसा विदेश से भारत में आया है। आइए जानते हैं समोसे के बारे में वह सबकुछ जो पहले आपने कभी भी नहीं जाना होगा। 

सबसे पहले यूपी में बनाया गया था आलू मटर वाला समोसा 
हम में से ज्यादातर लोगों को गर्मागर्म समोसे सबसे ज्यादा पसंद आते हैं। पूरे भारत में इसे अलग-अलग तरह से खाया जाता है। कहीं चटनी तो कहीं छोले के साथ इसे सर्व किया जाता है, लेकिन क्या आप इस समोसे का इतिहास जानते हैं।

ज्यादातर लोग समोसे को एक भारतीय व्यंजन (Indian Dish) के रूप में जानते हैं,लेकिन असल में समोसा विदेश से भारत में आया है। आइए जानते हैं समोसे के बारे में वह सबकुछ जो पहले आपने कभी भी नहीं जाना होगा। 

इतिहास में दर्ज है विदेश से भारत आने की जानकारी : 
इतिहासकारों की मानें तो समोसे की खोज भारत में नहीं हुई थी, बल्कि यह विदेश से भारत आया है। भारत के कोने कोने में मिलने वाला यह व्यंजन दरअसल ईरान (Iran) से भारत लाया गया है। समोसा शब्द फारसी शब्द 'संबोसाग' (Sambosag) से निकला हुआ है। उस समय ईरान फारस की खाड़ी के नाम से जाना जाता था।


कुछ इतिहासकार इसे 2 हजार साल पुराना मानते हैं। इन इतिहासकारों के मुताबिक आर्य ही समोसे को भारत लेकर आए। एक कहानी के मुताबिक 10वीं सदी में मोहम्मद गजनवी के शाही दरबार में एक पेस्ट्री पेश की जाती थी, जिसमें कीमे की स्टफिंग होती थी। इसे कीमे और सूखे मेवों से तैयार किया जाता था और यह काफी हद तक समोसे की तरह होती थी। 

आग पर सेंककर बनते थे समोसे : 
इतिहासकार बताते हैं कि आज भले ही इसे स्नेक्स के तौर पर प्रयोग किया जाता हो, लेकिन 10वीं सदी में इसे भोजन के रूप में उपयोग किया जाता था। उस दौर में मध्य पूर्व में रहने वाले व्यापारी सफर के समय इसे अपने साथ लेकर चलते थे। वहीं इसे तेल में फ्राइ नहीं किया जाता था। बल्कि आग के ऊपर सेका जाता था। तब इसे गेंहू के आटे से बनाया जाता था। 


वहीं भारत आने के बाद यह पूरी तरह से बदल चुका है। आज समोसा पूरी दुनिया में एक शाकाहारी डिश के रूप में जाना जाता है। मुख्य रूप से इसे आलू, मटर और विभिन्न मसालों का प्रयोग कर बनाया जाता है। 

यह भी पढ़ें : असम में मिलती है दुनिया की सबसे महंगी चाय कीमत जानकर हैरान रह जाऐगें आप!

यूपी से मिली पूरी दुनिया में प्रसिद्धि : 
बताया जाता है कि सबसे पहले यूपी में ही आलू मटर की स्टफिंग से शाकाहारी समोसा (Veg Samosa) तैयार किया गया। यहां से इसे इतनी प्रसिद्धि मिली कि देखते ही देखते यह पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो गया। इसका स्वाद लोगों को ऐसा भाया कि यह भारत की गली गली में बिकने लगा और देखते ही देखते मीट वाले समोसे का चलन लगभग खत्म सा हो गया।

पाकिस्तान के समोसे भी हैं पूरी दुनिया में प्रसिद्ध :
पाकिस्तान में मिलने वाले समोसे भी पूरी दुनिया में बहुत प्रसिद्ध हैं। इसका कारण उसमें फिल की जाने वाली लजीज और हेल्दी स्टफिंग है। दरअसल पाकिस्तान में समोसे में विभिन्न सब्जियों की स्टफिंग भरी जाती है।


वहां के समोसे की परत भी बिल्कुल पतली होती है और उसे कागजी समोसा कहा जाता है। जबकि भारत में मिलने वाले समोसे की परत बहुत मोटी होती है। 

यह भी पढ़ें : होली और रंगपंचमी पर सिंधी समाज के लोग घीयर के साथ देते हैं शुभकामना संदेश