होली और रंगपंचमी पर सिंधी समाज के लोग घीयर के साथ देते हैं शुभकामना संदेश 

वैसे तो घीयर आपको साल भर मिल जाएंगे, लेकिन होली के पर्व पर इसकी डिमांड सबसे अधिक होती है। होली का पारंपरिक पकवान होने के कारण अकेले भोपाल में होली पर हर साल 120 क्विंटल तक घीयर की बिक्री होती है। पूजन की थाली में भी यह पकवान अनिवार्य होता है।

होली और रंगपंचमी पर सिंधी समाज के लोग घीयर के साथ देते हैं शुभकामना संदेश 
रंगों के त्योहार होली के बाद जल्द ही रंगपंचमी का त्योहार भी रंगों और उत्साह के साथ मनाया जाएगा। हर समाज में हर त्योहार काे लेकर अलग-अलग परंपराएं हैं, ऐसी ही एक अनोखी परंपरा सिंधी समाज में भी पिछले 250 से ज्यादा सालों से चली आ रही है। यह परंपरा है होली के दिन घीयर के साथ शुभकामनाएं देने की। जैसे जैसे होली और रंगपंचमी का त्योहार पास आता है। भोपाल सहित देश के हर भाग में जहां सिंधी समाज के लोग निवासरत हैं, वहां घीयर बनाने का काम शुरू हो जाता है।

घीयर बनाने का यह सिलसिला होली के एक सप्ताह तक जारी रहता है। इस दौरान दोस्तों रिश्तेदारों के घर शुभकामनाओं के साथ घीयर लेकर जाया जाता है। सिंधी समाज में घीयर का विशेष महत्व है। इसे एक तरह से बाबुल के प्यार का प्रतीक माना जाता है। यानि पिता बेटी के घर शुभकामनाएं देने के लिए विशेष रूप से घीयर लेकर जाता है। सिंधी समाज में बहन और बेटियों का मुंह मीठा करवाने के लिए इस मिठाई का उपयोग किया जाता है। साथ ही होलिका दहन में भी इस मिठाई का उपयोग होता है। 

अकेले भोपाल में ही 120 क्विंटल घीयर की खपत : 
वैसे तो घीयर आपको साल भर मिल जाएंगे, लेकिन होली के पर्व पर इसकी डिमांड सबसे अधिक होती है। होली का पारंपरिक पकवान होने के कारण अकेले भोपाल में होली पर हर साल 120 क्विंटल तक घीयर की बिक्री होती है। पूजन की थाली में भी यह पकवान अनिवार्य होता है। भोपाल में लगभग 30 हजार सिंधी परिवार हैं। अनुमान है कि होली से रंगपंचमी तक हर परिवार घीयर का स्वाद जरूर चखता होगा।

घीयर देसी और वनस्पति दोनों तरह के घी से बनाए जाते हैं। इसे बनाने में घी, मैदा और शक्कर का इस्तेमाल किया जाता है। वनस्पति घी की मिठाई बाजार में 200 रुपए प्रति किलो और देसी घी की मिठाई 340 रुपए प्रति किलो के भाव तक बिकती है। होली पर इसकी बिक्री ज्यादा होती है। संत हिरदाराम नगर स्थित चंचल स्वीट के अनुसार पिछले साल कोरोना के कारण घीयर की बिक्री नहीं हो सकी थी। इस कारण व्यापारियों काे उम्मीद है कि इस साल रंगपंचमी तक इसकी बंपर बिक्री होगी। 

सांचे में बनाई जाती है यह मिठाई : 
जलेबी की तरह दिखने वाली इस मिठाई का इतिहास भी पाकिस्तान के सिंध प्रांत से जुड़ा है। सिंधी मिठाइयां बनाने वाले रमेश चंचल की मानें तो होली से लगभग 15 दिन पहले घीयर बनाने का काम शुरू हो जाता है और इसके लिए हमेशा विशेष कारीगर रखे जाते हैं। होली के सीजन में लगभग 15 क्विंटल तक घीयर की बिक्री केवल हमारी ही दुकान से हो जाती है। शहर में कई अन्य जगहों पर भी अलग अलग वैरायटी के घीयर उपलब्ध हैं। 


वहीं घीयर का आकार और रंग अन्य जलेबियों से पूरी तरह अलग होता है। इसका रंग इमरती से बिल्कुल अलग और आकार बड़ा होता है। इसे बनाने के लिए विशेष तरह के सांचों का उपयोग किया जाता है।