पंजाब में पहली बार कोई दलित बना मुख्‍यमंत्री, जानिए नए सीएम चरणजीत चन्नी के बारे में 10 नई बातें-

Punjab CM Oath Ceremony: चमकौर साहिब के विधायक रह चुके चरणजीत सिंह चन्नी ने 20 सितंबर सोमवार सुबह पंजाब के नए सीएम के रूप में शपथ ले ली है। अच्‍छी खबर यह है कि वह प्रदेश के पहले दलित मुख्यमंत्री बने हैं इससे पहले पंजाब में ऐसा कभी नहीं हुआ है।

पंजाब में पहली बार कोई दलित बना मुख्‍यमंत्री, जानिए नए सीएम चरणजीत चन्नी के बारे में 10 नई बातें-
चरणजीत चन्नी

Punjab CM Oath Ceremony: चमकौर साहिब के विधायक रह चुके चरणजीत सिंह चन्नी ने 20 सितंबर सोमवार सुबह पंजाब के नए सीएम के रूप में शपथ ले ली है। अच्‍छी खबर यह है कि वह प्रदेश के पहले दलित मुख्यमंत्री बने हैं इससे पहले पंजाब में ऐसा कभी नहीं हुआ है।

पंजाब के पूर्व मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह के शनिवार शाम इस्तीफा देने के फैसले के बाद शायद ही किसी ने उम्‍मीद की थी की चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री बनेगें।

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री के बारे में ये 10 बातें आपको अहसास दिला देगीं कि क्‍यों चरणजीत चन्नी को नया सीएम बनाकर कांग्रेस ने अच्‍छा काम किया है।।

unknown facts about charanjit singh channi

चरणजीत चन्नी के बारे में 10 नई बातें-

  1. चन्नी दलित समुदाय के सदस्य हैं। उनका जन्म मकरोना कलां गांव में हुआ था। उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय में कानून की पढ़ाई की और पीटीयू जालंधर से एमबीए किया।
  2. चन्नी के परिवार के संघर्षों के बारे में बताते हुए, पंजाब सरकार की वेबसाइट कहती है, “उनके पिता को अपने परिवार को आर्थिक सुरक्षा के स्तर पर लाने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ा, जिसके लिए उन्हें मलेशिया में प्रवास करना पड़ा। उन्होंने कड़ी मेहनत की और आखिरकार सफलता ने उन्हें और उनके परिवार को गले लगा लिया। वह पंजाब लौटे और खरड़ शहर में एक टेंट हाउस का व्यवसाय शुरू करके बस गया, जहाँ चन्नी एक टेंट बॉय के रूप में भी काम करते थे।”
  3. उन्होंने नगरपालिका चुनावों के साथ अपना आधिकारिक राजनीतिक डेब्‍यू किया था, वह तीन कार्यकाल के लिए नगर पार्षद बने और बाद में दो कार्यकाल के लिए नगर परिषद खरड़ के अध्यक्ष बने। इसके बाद वह पहली बार 2007 में वह विधायक बने।
  4. वह पंजाब के चमकौर साहिब विधानसभा क्षेत्र से तीन बार विधायक रहे हैं। उन्होंने 2007, 2012 और 2017 में विधानसभा चुनाव जीते। विशेष रूप से, चन्नी ने 2015 से 2016 तक पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में भी काम किया था।
  5. चन्नी 2015 से 2016 तक पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे।  2017 में, उन्हें दूसरे अमरिंदर सिंह मंत्रालय में तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया।
  6. 2015 में, चन्नी को 14वीं पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में चुना गया था।
  7. चन्नी पर कई आरोप भी रह चुके हैं। 2015 में उन्‍होनें अपने ज्योतिषी की सलाह पर एक शुभ लेआउट में एक अवैध सड़क का निर्माण किया था, जिसे चंडीगढ़ सरकार ने ध्वस्त कर दिया था।
  8. आम आदमी पार्टी के सुखपाल खैरा ने चन्नी और उनके भतीजे पर अवैध खनन में शामिल होने का आरोप लगाया था। चन्नी ने जवाब  उस समय अपने बयान में यह स्‍पष्‍ट कर दिया था कि उनके परिवार की खनन में कोई भागीदारी नहीं है।
  9. पंजाब के मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ #MeToo  का आरोप भी लग चुका है। इस मामले के मुताबिक 2018 में उन्‍होनें एक महिला आईएएस अधिकारी को आपत्तिजनक मैसेज भेजे थे. हालांकि, शिकायत कभी दर्ज नहीं की गई।
  10. सितंबर 2021 में, कैप्टन अमरिंदर सिंह के पंजाब के मुख्यमंत्री के इस्तीफा देने के बाद चन्‍नी को मुख्‍यमंत्री बनाया गया। वह पंजाब के पहले दलि मुख्‍यमंत्री हैं।

यह भी जरूर पढें- सत्‍ता पलट: पंजाब के मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह ने दिया इस्तीफा, नए सीएम की दौड़ में ये 2 नाम सबसे आगे-