ईमानदार ऑटो चालक उमर खान को दयावन ग्रुप ने टीआई जहांगीराबाद के हाथों कराया सम्मानित 

भोपाल स्थित मकबूल दयावान जनकल्याण समिति के द्वारा सोमवार रात जहांगीराबाद शब्बन चौराहे पर उमर का सम्मान पत्र एवं ट्रॉफी से सम्मान कराया गया। यह सम्मान उन्हें जहांगीराबाद थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह चौहान के हाथों दिया गया। इस माैके पर दयावान ग्रुप के सदस्य जफर खान, फैजान खान, फैयाज खान, इमरान मिर्जा, आसिफ शेख गोताखोर, अकबर खान, मुजीब खान और ओवेस खान सहित कई लोग मौजूद थे।

ईमानदार ऑटो चालक उमर खान को दयावन ग्रुप ने टीआई जहांगीराबाद के हाथों कराया सम्मानित 

भोपाल में एक ईमानदार ऑटो वाला सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। पीरगेट स्थित ऑटो स्टैंड से ऑटो का संचालन करने वाले ऑटो चालक उमर खान (Auto Driver Umar Khan) अपनी ईमानदारी के कारण भोपाल ही नहीं पूरे देश और प्रदेश में लोगों की प्रशंसा के पात्र बने हुए हैं। 26 जून को उमर ने अपने ऑटो में मिले एक पर्स को पुलिस के सुपुर्द कर दिया था, जिसके बाद सब उनकी ईमानदारी की तारीफ कर रहे हैं। 

इसी सिलसिले में भोपाल स्थित मकबूल दयावान जनकल्याण समिति के द्वारा सोमवार रात जहांगीराबाद शब्बन चौराहे पर उमर का सम्मान पत्र एवं ट्रॉफी से सम्मान कराया गया। यह सम्मान उन्हें जहांगीराबाद थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह चौहान (TI Virendra Singh Chauhan) के हाथों दिया गया। इस माैके पर दयावान ग्रुप के सदस्य जफर खान, फैजान खान, फैयाज खान, इमरान मिर्जा, आसिफ शेख गोताखोर, अकबर खान, मुजीब खान और ओवेस खान सहित कई लोग मौजूद थे। कार्यक्रम में सभी लोगों ने उमर की तारीफ की और उन्हें भविष्य में नेक कार्य करते रहने के लिए शुभकामनाएं प्रेषित कीं।

यह है मामला : 
दरअसल 26 जून को दो महिलाएं चौक बाजार में खरीदारी के लिए आई थीं। इसी दौरान वापसी के समय एक महिला का पर्स ऑटो चालक उमर खान के ऑटो में छूट गया। उमर ने जब ऑटो में पर्स छूटा हुआ देखा तो पीरगेट स्थित पुलिस सहायता केंद्र पर उसे जमा करवा दिया। पर्स में लगभग 1.5 लाख रुपए के आभूषण और 4 हजार रुपए नगद थे।


बाद में महिलाओं ने कोतवाली थाने पहुंचकर पर्स गुमने की रिपोर्ट दर्ज करवाई, जिस पर कार्रवाई करते हुए कोतवाली पुलिस ने जब पीरगेट पुलिस सहायता केंद्र से संपर्क किया तो पुलिस कर्मियों ने पर्स उनके पास होने की बात बताई। जिसके बाद महिलाओं ने पीरगेट पहुंचकर पर्स हासिल किया और ऑटो चालक उमर को धन्यवाद दिया। साथ ही उनकी ईमानदारी से प्रभावित होकर उन्हें सम्मानित भी किया।

यह भी पढ़ें : 3 दशक से सर्विस कर रहे जीआरपी जवानों को नहीं मिला अब तक प्रमोशन