Zika Virus: तेजी से फैल रहे जीका वायरस से अपने परिवार को इस प्रकार करें सुरक्षित

पिछले कुछ महीनों में जीका वायरस एक खतरनाक बीमारी बनकर सामने आया है, जीका एक ऐसी बीमारी है जो मच्छरों के काटने से फैलती है। आइए जीका वायरस के बारे में विस्‍तार से जानते हैं।

Zika Virus: तेजी से फैल रहे जीका वायरस से अपने परिवार को इस प्रकार करें सुरक्षित
जीका वायरस

पिछले कुछ महीनों में जीका वायरस एक खतरनाक बीमारी बनकर सामने आया है, जीका एक ऐसी बीमारी है जो मच्छरों के काटने से फैलती है। यह वायरस मनुष्यों में आसानी से स्थानांतरित हो सकता है। यह पीलिया, बुखार और डेंगू के समान खतरनाक है जो बिगड़ने पर इंसान की जान ले सकता है। इस बीमारी का नाम युगांडा के जीका फॉरेस्ट से लिया गया है, जहां से इसकी उत्पत्ति हुई थी।

कहां से आया जीका वायरस

जीका वायरस पहली बार 1950 अफ्रीका में चर्चाओं में आया था, उस समय में यह वायरस अफ्रीका से एशिया फैल गया था। साल 2016 में, जीका वायरस के बारे में व्यापक दृष्टिकोण तब सामने आया जब यह अमेरिकी महाद्वीपों, विशेष रूप से ब्राजील में फैल गया था।

वर्तमान समय में भारत मे भी इस वायरस के काफी केस देखने को मिले हैं, आइए जीका वायरस के बारे में विस्‍तार से जानते हैं।

जीका वायरस के लक्षण

एक बार जब व्‍यक्ति इस वायरस के संपर्क में आ जाता है तो कुछ सामान्य लक्षण जैसे दाने, जोड़ों में दर्द, बुखार, आंखों के पीछे का दर्द, गुलाबी आंख और सिरदर्द आदि लक्षण दिखाता है।

लक्षण हल्के हो सकते हैं और केवल कुछ हफ्तों तक चल सकते हैं। कुछ मामलों वायरस से पीड़ित लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि वायरस इतना खतरनाक नहीं है लेकिन सावधानी बरतना जरूरी है।

किन लोगों को है जीका वायरस से खतरा-

विशेषज्ञों के अनुसार गर्भवती माताओं और अजन्मे बच्चों को इस वायरस से अधिक जोखिम होता है। मच्छर द्वारा काटे गए किसी भी बच्चे या वयस्क को हल्की बीमारी दिखाई देगी। हालांकि, बच्चों को जन्म देने वाली गर्भवती महिलाओं को जीका संक्रमण के कारण गर्भावस्था के नुकसान और जन्म दोषों का अनुभव हो सकता है।

जीका वायरस का इलाज

जीका वायरस को रोकने के लिए कोई विशेष दवा नहीं है। हालांकि, हाइड्रेटेड रहने और पर्याप्त आराम करने की सलाह दी जाती है।

जटिलताओं के बारे में बात करते हुए, जीका वायरस को गुइलेन-बैरे सिंड्रोम, एक ऑटोइम्यून बीमारी और तंत्रिका संबंधी विकार के कारण जाना जाता है जो मांसपेशियों की कमजोरी, पक्षाघात और तंत्रिका क्षति का कारण बनता है। इसके अलावा, जीका संक्रमण हृदय रोग से भी जुड़ा हुआ है। बच्चों और वयस्कों में वायरस की जटिलताओं के बारे में अभी भी शोध जारी है।

अपने परिवार को जीका वायरस से कैसे बचाएं?

सीडीसी के अनुसार, जीका वायरस यात्रा करते समय अधिक फैलता है। कैरिबियन, एशिया, अफ्रीका, मैक्सिको, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत द्वीपों की यात्रा करने वाले लोग यात्रा के दौरान अधिक संक्रमित हो गए हैं। जीका संक्रमण जोखिम और यात्रा सिफारिशों के बारे में अधिक जानने के लिए आप सीडीसी की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं।

मच्छरों के काटने से बचने का उपाय:

  • DEET कीट विकर्षक का प्रयोग करें। सुनिश्चित करें कि आपने लेबल को ध्यान से पढ़ा है कि इसे कितनी बार पुन: लागू करने की आवश्यकता है, बच्‍चों से इसके दूर रखें।
  • मच्छरों के काटने से बचने के लिए, हल्के रंग के कपड़े पहनें जो अधिकतम कवरेज प्रदान करते हैं। गहरे रंगों से बचें क्योंकि यह मच्छरों को आकर्षित करता है।
  • सुबह शाम मच्छर अत्यधिक सक्रिय होते हैं। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप दरवाजे और खिड़कियां ठीक से बंद करें।
  • अपने बिस्तर के चारों ओर कीट जाल लगाएं और दरवाजों को अच्छी तरह से बंद कर दें।
  • भरे पानी में अधिक मच्छर पैदा होते हैं, इसलिए आपको इससे पूरी तरह बचना चाहिए। उस क्षेत्र को कवर करें जो पानी लीक करता है।
  • जीका वायरस पर इन युक्तियों का पालन करने के अलावा, आप जीका वायरस की रोकथाम किट का उपयोग 100% सुरक्षा के लिए भी कर सकते हैं।
  • चूंकि जीका वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए अभी तक कोई टीका उपलब्ध नहीं है, इसलिए आपको अपनी ओर से अत्यधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

यह भी जरूर पढें- Dengue fever: तेजी से फैल रहे डेंगू बुखार से इस प्रकार करें बचाव