संघर्ष से सफलता तक: दूध बेचकर होता था परिवार का गुजारा, आज IPL में धमाल मचा रहे हैं वैभव आरोड़ा

भारत में हर साल IPL ना सिर्फ मनोरंजन लेकर आता है बल्कि अपने साथ कई ऐसी कहानियां लेकर आता है जो एक मिशाल बन जाती हैं, हर साल की तरह इस साल भी आईपीएल में कई ऐसे नए खिलाड़ी देखने को मिल रहे हैं जो अपने टैलैंट के दम पर लोगों का दिल जीत रहे हैं लेकिन आईपीएल में पहुंचने से पहले उनकी कहानी के बारे में शायद कोई नहीं जानता।

संघर्ष से सफलता तक: दूध बेचकर होता था परिवार का गुजारा, आज IPL में धमाल मचा रहे  हैं वैभव आरोड़ा

भारत में हर साल IPL ना सिर्फ मनोरंजन लेकर आता है बल्कि अपने साथ कई ऐसी कहानियां लेकर आता है जो एक मिशाल बन जाती हैं, हर साल की तरह इस साल भी आईपीएल में कई ऐसे नए खिलाड़ी देखने को मिल रहे हैं जो अपने टैलैंट के दम पर लोगों का दिल जीत रहे हैं लेकिन आईपीएल में पहुंचने से पहले उनकी कहानी के बारे में शायद कोई नहीं जानता।

ऐसी ही एक कहानी हैं वैभव आरोड़ा (Vaibhav Arora) की जिन्‍होनें IPL 2022  में पंजाब किंग्‍स के साथ अपना डेब्‍यू किया और चैन्‍नई जैसी बड़ी टीम के खिलाफ शुरूआत में से 2 विकेट लेकर सबको हैरान कर दिया। लेकिन वैभव का आईपीएल में पहुंचने का सफर काफी कठिनाइयों भरा रहा है।

डेयरी चलाते हैं वैभव के पिता

वैभव की सफलता के बाद उनके कोच बताते हैं कि वैभव अंबाला के सदर चौक के पास स्थित पंजाबी कॉलोनी में रहते हैं। उनके पापा गोपाल कृष्ण की डेयरी है। वैभव दो भाई हैं। अंडर 19 में पंजाब के एक कैंप में सिलेक्‍ट ना होने के बाद निराश वैभव ने अपने कोच से एक निजी नौकरी की तलाश करने के लिए कहा था क्योंकि वह क्रिकेट छोड़ना चाहते थे। वैभव के पिता गोपाल अरोड़ा अंबाला में डेयरी चलाते थे और उन्हें अपने व्यवसाय में भारी नुकसान हुआ था। डेयरी बंद थी वैभव सबसे बड़ा बेटा था, इसलिए वे चाहते थे कि वह पैसा कमाए। लेकिन उनके कोच रवि वर्मा ने उन्‍हें अपने सबसे होनहार बॉलर माना था।

कोच ने दिया दूसरा मौका  

वैभव के कोच रवि वर्मा बताते हैं कि " जब वैभव ने क्रिकेट छोड़ने को कहा तो मैं चौंक पड़ा। मुझे पता था कि उनका परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। तो मैंने उनके पिता को बुलाया और उन्हें वैभव को दो और साल देने के लिए कहा, और कहा कि मैं वित्‍तीय रूप से उसका ख्याल रखूंगा; उसे एक पैसा भी नहीं देना है” वर्मा ने कहा।

2019 – 20 रणजी में की शानदार बॉलिंग

साल 2019 – 20 में रणजी में पंजाब की टीम से बॉलिंग करते हुए वैभव आरोड़ा ने शानदार प्रर्दशन किया और वह पंजाब के वेस्‍ट बॉलर निकलकर सामने आए जिसकी वजह से उन्‍हें, IPL 2020 में पंजाब की तरफ से 20 लाख के बेस प्राइस पर नेट बॉलर के रूप में चुना गया।

IPL में नेटबॉलर से की शुरूआत

कोच वर्मा ने आगे कहा कि इस बार IPL की मेगा ऑक्शन में पंजाब किंग्स ने उन्हें 2 करोड़ रुपए की बोली लगाकर खरीदा। उनका बेस प्राइस 20 लाख रुपए था। इससे पहले भी वे 2020 में पंजाब किंग्स के साथ नेटबॉलर के रूप में जुड़े थे। 2019-20 में रणजी में शानदार प्रदर्शन के बाद उन्हें आईपीएल 2021 में उन्हें 20 लाख की बेस प्राइस पर कोलकाता नाइट राइडर्स ने खरीदा था पर KKR के लिए उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला।

2022 में पंजाब ने 2 करोड़ में खरीदा।   

IPL 2020 ऑक्‍सन में वैभव को उनकी होम टीम पंजाब ने 2 करोड़ रूपये में खरीदा, रविवार दोपहर को, स्टेडियम के लिए रवाना होने से पहले, वैभव ने अपने कोच रवि वर्मा को फोन किया और कहा: "सर आज लगा रहा मेरेको खिलाएंगे।

चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ मैच खेलते हुए वैभव ने अपने 4 ओवरों में 2/21 के प्रभावशाली आंकड़े के साथ यह साबित कर दिया कि वह इंडियन क्रिकेट का भविष्‍य हैं।

 Also Read: आईपीएल 2021: ड्राइवर का बेटा बना मिसाल, आखें नम कर देगी चेतन सकारिया के संघर्ष की कहानी-