आईआईटी ग्रेजुएट एसपी ने कलेक्टर के साथ मिलकर इंस्टाल कर दिए वेंटीलेटर, प्रदेश सरकार से लेकर आम लोग तक कर रहे प्रशंसा

राजगढ़ के एसपी प्रदीप शर्मा ने अपने कौशल के दम पर अस्पताल में 4 वेंटीलेटर इंस्टाल कर अनूठी मिसाल पेश कर दी है। इस दौरान जिले के कलेक्टर नीरज सिंह ने भी उनका बखूभी साथ दिया। दोनों अधिकारियों ने अपने हुनर के दम पर कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए अस्पताल में ही वेंटीलेटर सुविधा शुरू करवा दी।

आईआईटी ग्रेजुएट एसपी ने  कलेक्टर के साथ मिलकर इंस्टाल कर दिए वेंटीलेटर, प्रदेश सरकार से लेकर आम लोग तक कर रहे प्रशंसा

कहते हैं व्यक्ति अपने कार्यों से ही पहचाना जाता है। जीवन में अच्छी या बुरी उपलब्धियां अपने कार्यों से ही हासिल होती हैं। जहां भारत के अलग -अलग क्षेत्रों से अधिकारियों के अजीब गरीब फरमानों की जानकारी सामने  आ रही है। उनके क्रूर रवैए के वीडियो देश भर में वायरल हो रहे हैं। वहीं मध्य प्रदेश राजगढ़ के एसपी प्रदीप शर्मा और कलेक्टर नीरज सिंह द्वारा किए गए एक काम ने उन्हें देश भर में चर्चित कर दिया है।

दरअसल दोनों अधिकारियों ने साथ बैठकर राजगढ़ के सिविल अस्पताल में एक साल से धूल खा रहे 4 वेंटीलेटर को मात्र 6 घंटे में शुरू कर संकट में फंसे मरीजों की समस्याओं को काफी हद तक खत्म कर दिया है।


6 घंटे में खत्म की मरीजों की प्रशंसा :
राजगढ़ के एसपी प्रदीप शर्मा ने अपने कौशल के दम पर अस्पताल में 4 वेंटीलेटर इंस्टाल कर अनूठी मिसाल पेश कर दी है। इस दौरान जिले के कलेक्टर नीरज सिंह ने भी उनका बखूभी साथ दिया। दोनों अधिकारियों ने अपने हुनर के दम पर कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए अस्पताल में ही वेंटीलेटर सुविधा शुरू करवा दी।

इसके पहले इन वेंटिलेटर के इंस्टॉल न हो पाने से डॉक्टर गंभीर मरीजों के इलाज के लिए परेशान हो रहे थे। एसपी प्रदीप शर्मा ने कलेक्टर नीरज सिंह और कुछ अधिकारियों की मदद से 6 घंटे की मेहनत के बाद सभी वेंटिलेटर इंस्टॉल कर शुरू करवा दिए।


निरीक्षण के दौरान सामने आई समस्या :
दरअसल कुछ रोज पहले कलेक्टर नीरज सिंह और एसपी प्रदीप शर्मा पीपीई किट पहनकर अचानक राजगढ़ जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड पहुंच गए। इस दौरान जब अधिकारियों को वेंटिलेटर की कमी की जानकारी मिली, तो लगभग साल भर पहले से स्टोर रूम में पड़े वेंटिलेटर्स को निकलवाया गया। इस दौरान पीडब्ल्यूडी इंजीनियर सुमित सिंह और नपा इंजीनियर अंकित सिंह भी मौजूद थी।

फिर क्या आंखों ही आंखों में इशारे हुए और एसपी प्रदीप शर्मा के नेतृत्व में वेंटीलेटर इंस्टाल होना शुरू हुए और लगभग 6 घंटे की मेहनत के बाद सभी वेंटीलेटर सफलता पूर्वक इंस्टाल कर लिए गए।


आईआईटी रुड़की से ग्रेजुएट हैं जिले के पुलिस कप्तान : 
दरअसल जिले के पुलिस कप्तान प्रदीप शर्मा आईआईटी रुड़की से बीटेक करने के बाद दो वर्षों तक एक निजी कम्पनी में इंजीनियर रहे हैं। इंजीनियरिंग पास आउट होने से उन्हें वेंटीलेटर इंस्टॉल करने में ज्यादा दिक्कत नहीं आई। वहीं मरीजों को संकट में देख एसपी प्रदीप शर्मा ने अपना पुराना हुनर याद किया।

जिसके बाद उन्होंने स्टोर रूम में धूल खा रहे वेंटीलेटर को ठीक कर राजगढ़ कोविड वार्ड में इंस्टाल भी कर दिया। वेंटिलेटर इंस्टॉल करने के बाद दोनों अधिकारी पीपीई किट पहनकर कोरोना वार्ड में पेशेंट्स से मिलने भी गए।