केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बोले भारत के लोगों को अंग्रेजी में नहीं हिंदी में करनी चाहिए बात

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि अब राजभाषा हिंदी को देश की एकता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाने का समय आ गया है। उनका कहना है कि भारत में जब अलग-अलग राज्यों के लोग एक दूसरे से बात करें तो वो हिंदी में करें। गृह मंत्री ने युवाओं द्वारा हिंदी के अधिक से अधिक उपयोग पर जोर दिया है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बोले भारत के लोगों को अंग्रेजी में नहीं हिंदी में करनी चाहिए बात

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने हिंदी को स्थानीय भाषाओं के नहीं बल्कि इंग्लिश की जगह प्रयोग करने पर जोर दिया है। उन्होंने सलाह भी दी है कि अलग-अलग राज्यों के लोगों को इंग्लिश में नहीं बल्कि हिंदी में बात करनी चाहिए। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निर्णय लिया है कि सरकार चलाने का माध्यम राजभाषा है और ये हिंदी के महत्व को बढ़ाने में मदद करेगा।

अमित शाह ने कहा कि अब राजभाषा हिंदी को देश की एकता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाने का समय आ गया है। उनका कहना है कि भारत में जब अलग-अलग राज्यों के लोग एक दूसरे से बात करें तो वो हिंदी में करें। गृह मंत्री ने युवाओं द्वारा हिंदी के अधिक से अधिक उपयोग पर जोर दिया है। साथ ही अमित शाह ने नौवीं कक्षा तक के छात्रों को हिंदी की ओर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता पर बल दिया है।  

Also Read: Cow Ghee Vs Buffalo Ghee: गाय या भैंस किसका घी होता है ज्‍यादा फायदेमंद?


2019 में हिंदी दिवस पर अमित शाह ने अपना भाषण देते हुए 'एक राष्ट्र, एक भाषा' के विचार को आगे बढ़ाया था। उन्होंने कहा था कि भारत विभिन्न भाषाओं का देश है जहां हर एक भाषा का अपना महत्व है लेकिन पूरे देश की एक भाषा होनी चाहिए जो कि राष्ट्र की अलग पहचान बना सके। बता दें कि भारत की राजभाषा हिंदी है जिस को की कई बार राष्ट्र भाषा बनाने की मांग उठती रहती है।

Also Read: Ramadan 2022: आइए जानते हैं खजूर खाकर ही क्यों खोला जाता है रोजा?